Click Here to Verify Your Membership
First Post Last Post
Incest Meri Jawan Bahu (Part 02)

कल रात की घटना के कारण मदनलाल सुबह से बुझा -२ सा था। इधर काम्या भी प्यासी रह जाने के कारन उदास सी थी लेकिन उसे बाबूजी की उदासी का कारण समझ नहीं आ रहा था। कल तक बाबूजी हर मौके पर उसे छेड़ रहे थे जबकि आज चुप थे। सारा दिन ऐसे ही बीत गया रात भी आई लेकिन मदनलाल आज तांक झाँक करने नहीं गया। सुनील की जिंदगी पर उसे दया आ रही थी। तीसरे दिन सुनील वापस मुंबई चला गया लेकिन घर में सब को उदास कर गया। सबकी उदासी का कारण अलग -२ था। माँ बेटे के जाने कारण दुखी थी बाप सुनील की कमज़ोरी और काम्या का उसके प्रति रूखा बर्ताव देख कर दुखी था तो काम्या अपनी अतृप्त प्यास के कारण दुखी थी। सुनील के जाने के बाद चार दिन बीत गए लेकिन मदनलाल ने पहल नहीं की। काम्या बाबूजी के इस बदले व्यवहार से हैरान थी उसने तो सोचा था कि सुनील के जाते ही बाबूजी भूखे भेड़िये की तरह टूट पड़ेंगे लेकिन बाबूजी एकदम शांत थे। पांचवे दिन सुबह -२ उनकी पड़ोसन आ गई और शांति को अपने साथ बाजार ले गई और कह गई कि हमें आने में तीन चार घण्टे लग जायेंगे।
मांजी के जाने के बाद काम्या नहाने को बाथरूम में चली गई। कुछ देर बाद बहु के कमरे में मोबाइल बजने लगा।काफी देर बजने के बाद मदनलाल ने जाकर देखा तो बहु की माँ का फ़ोन था पहले तो उसने रिसीव करने की सोचा फिर रहने दिया और वापस हाल में आ गया। थोड़ी देर बाद समधन का फ़ोन मदनलाल के मोबाइल में आ गया।
मदनलाल :- हां। नमस्कार। कैसे हैं आप।
समधन :-- हाँ जी। हम तो बिलकुल ठीक हैं और आप।
मदनलाल :-- बस आपकी कृपा से यहाँ भी सब ठीक है। बताइये कैसे याद किया।
समधन :-- जी ऐसे ही काम्या को फ़ोन लगा रही थी लेकिन वो उठा ही नहीं रही। घर में नहीं है क्या ?
मदनलाल :-- है तो घर में ही ,शायद छत में चली गई हो। खैर मैं बहु को बता दूंगा।
कॉल ख़त्म होने के बाद मदनलाल कुछ देर बैठा रहा फिर बहु को बताने उसके कमरे की ओर चल दिया। बहु के कमरे के अंदर कदम रखते ही उसने जो देखा तो वो सांस लेना ही भूल गया। अंदर काम्या केवल ब्रा और पैंटी पहने आईने के सामने खड़ी थी और अपने गीले बालों में कँघी कर रही थी लाल कलर की पैंटी और ब्रा में वो साक्षात कामदेवी लग रही थी। संगमरमर के सामान चिकना और मख्खन के सामान उसका गोरा बदन मदनलाल के होश उड़ाए दे रहा था। चूँकि मम्मी बाजार गई थी और बाबूजी आजकल एकदम शांत थे और उनकी तरफ से कोई अंदेशा नहीं था इसलिए वो लापरवाह होकर ब्रा पेंटी में ही कँघी कर रही थी। मदनलाल आँख फाड़े बहु की सुंदरता को निहारने लगा। लम्बी पतली सुराहीदार गर्दन, नाजुक से कंधे ,चिकनी छरहरी पीठ ,पतली बलखाती कमर और उसके नीचे क़यामत। सचमुच काम्या"" कमर के नीचे कयामत"" थी। उसकी गोल मटोल -भरी २ गाण्ड ही असल में सारे दंगे फसाद की जड़ थी। और उसके नीचे लम्बी -२ मांसल केले के तने सी चिकनी जांघे। काम्या की जांघे इतनी सेक्सी थी की मदनलाल घण्टों उन्ही को चाट चूम सकता था। मदनलाल होशो हवास खो धीरे-२ बहु के एकदम पास आ गया। अब उसे काम्या के जिस्म से निकलने वाली कमल के फूल की सी सुगंध भी आ रही थी। उत्तेजना में उसकी साँसे गहरी होती चली गई। साँसों की आवाज़ से काम्या को पीछे किसी के होने का अहसास हुआ और वो पलटी। बाबूजी को देखते ही उसके मुंह से निकला - -
काम्या :--- बाबूजी आप ! यहाँ ! कहते हुए अपने उरोज़ों को ढकने का प्रयास किया जिन्हे देख कर बाबूजी लार टपका रहे थे।
मदनलाल :-- वो वो sss आपकी माँ का फ़ोन आया था कह रही थी कि तुम फ़ोन नहीं उठा रही हो।
काम्या :-- जी हम नहाने चले गए थे। और काम्या ने पास पड़ा टॉवल उठा लिया। मदनलाल ने झटके से टॉवल छीन लिया और बोले
मदनलाल :-- रहने दो बहु तुम ऐसे ही बहुत अच्छी लग रही हो। मदनलाल ने काम्या अपनी बाँहों में दबोच लिया। अगर एक साधारण सी दिखने वाली स्त्री भी ब्रा पेन्टी में सामने आ जाये तो कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता है फिर बहु काम्या तो instant erection की गारंटी थी। पिछले हफ्ते भर से उसके मन में चल रहा वैराग्य हवा हो गया। जब विश्वामित्र जैसे तपस्वी मेनका को देख पिघल गए तो मदनलाल तो वैसे भी शौकीन तबियत का था। उसने बहु की ब्रा पकड़ा और एक झटके में फाड़ कर नीचे फेेंक दी। काम्या शर्म और डर से कांपने लगी। मदनलाल ने उसके मखमली बदन को उठा कर बेड में पटक दिया। अब काम्या बिस्तर चित पड़ी थी उसके शरीर पर केवल छोटी सी पेंटी थी जिससे उसकी दो तिहाई गाण्ड बाहर निकली हुई थी। मदनलाल बहु के उपर आ गया और उसके दोनों मम्मों को बेदर्दी से मसलने लगा। काम्या के मुख से दर्द और मजे की मिली जुली सिसकारी निकलने लगी। बहु की गोरी बेदाग़ चूचियाँ देख कर मदनलाल बोला -
मदनलाल :-- बहु , चूची में कोई नाख़ून या दाँत का निशान नहीं है वो उल्लू इनको छूता नहीं था क्या? काम्या ने लजाते हुए कहा
काम्या :-- वो बहुत प्यार से आहिस्ता से करते हैं । आपके जैसे जालिम थोड़े ही हैं
मदनलाल :-- अच्छा एक बात बताओ आहिस्ता से अच्छा लगता है या हमारा जालिमपना। ससुर की बात सुनकर काम्या ने आँखे बंद करते हुए कहा
काम्या :-- मर्द अगर प्यार करते समय थोड़ा जालिम भी हो जाए तो बुरा नहीं लगता।
मदनलाल :-- ठीक है तो हम जालिम हो जाते हैं। और उसके बाद मदनलाल काम्या के पूरे बदन पर दाँत गड़ाने लगा। उसके हाथ लगातार बहु के मम्मो को दबा रहे थे मसल रहे थे गूंथ रहे थे। ससुर की इन हरकतों से काम्या के बदन में ज्वालामुखी भड़क उठा। वो जोर जोर से सिसकारी ले रही थी। मदनलाल बहु की कमज़ोरी जानता था कि बूब्स बहु का सबसे वीक पॉइंट है इसलिए वो एक मिनिट भी उन्हें नहीं छोड़ रहा था। वो बूब्स को ऐसे चूस रहा था जैसे सचमुच उसमे से दूध निकल रहा हो। काम्या को अब बर्दास्त करना मुश्किल हो गया। उसने अपनी कमर उठा ली और बदन धनुषाकार बना दिया। जब मदनलाल ने देखा कि लोहा पूरी तरह गरम हो गया है तो उसने एक कदम आगे बढ़ने की सोची। वो बहु के दोनों तरफ पैर कर के बैठा और अपनी लुंगी हटा दी। लुंगी हटते ही कोबरा फुंफ़कारता हुआ बाहर आ गया और बहु के चेहरे के पास डोलने लगा। आँख के सामने बाबूजी का लण्ड को देखते ही काम्या स्तब्ध रह गई।
.jpg 4dekhana.jpg (Size: 5.5 KB)

मदनलाल ने उसका हाथ पकड़ा और उसे अपना हथियार पकड़ा दिया। लम्बा मोटा गरम मांस का वो खम्बा हाथ में आते ही काम्या के शरीर में चींटी सी रेंगने लगी। डर के मारे बहु ने अपना हाथ हटा दिया। तब मदनलाल बोला
मदनलाल :-- बहु लो पकड़ो इसे। ये तुम्हारा प्यार पाने के लिए तड़प रहा है। काम्या को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वो क्या करे। उसके संस्कार उसे पराये मर्द के उस अंग को छूने से मना कर रहे थे दूसरी तरफ उसका प्यासी जवानी ,पति से अतृप्त जीवन उसे कह रहा था कि थाम ले बाबूजी के अंग को। मन कुछ कह था तो तन कुछ और कह रहा था। इतिहास गवाह है कि जवां उम्र में इंसान हमेशा तन की सुनता है। काम्या का तन भी धीरे-२ मन पर हावी होता जा रहा था। बाबूजी ने बहु को दुविधा में देखा तो एक बार फिर उसकी कलाई पकड़ कर उसके हाथ में अपनी A K 47 थमा थी । काम्या ने इस बार अपना हाथ नहीं हटाया बल्कि कस कर थाम लिया। अपने लण्ड पर बहु के हाथ का कसाव महसूस करते ही मदनलाल का पूरा शरीर झनझना गया।

1 user likes this post dpmangla
Quote

Nice Post

Quote

Rochak update. Aage badhaye.

Quote

(20-06-2018, 11:47 PM)dpmangla : Nice Post

(21-06-2018, 05:15 PM)urc4me : Rochak update. Aage badhaye.

Thanks

Quote

काम्या के हाथ में बाबूजी का हथियार था वो उसे पकड़े हुए एकटक उसे देखे जा रही थी। इधर बाबूजी ने उसकी दोनों घुंडियों को उंगली में लेकर ट्विस्ट करना चालू कर दिया। घुंडियों के मर्दन से काम्या आपा खोते जा रही थी। बाउजी ने पूछा
मदनलाल :-- बहु ऐसे क्या देख रही हो अपने खिलोने को
काम्या :-- बाप रे। कितना बड़ा है।
.jpg 5+handjob.jpg (Size: 5.79 KB)

मदनलाल :-- अच्छा तो है। bigger is better . जितना बड़ा उतना ज्यादा मजा।
काम्या :--- इसको देख के अब हमको समझ में आया क्यों मम्मी इतनी कम उमर में बीमार रहने लगी हैं ।
मदनलाल :-- क्यों क्या समझा। जरा हमको बताओ
काम्या :-- आप ने तो माँजी के सारे अस्थि पंजर चटका दिए होंगे। तभी तो बेचारी हमेशाबीमार रहती है। हमको तो लगता है कि आपने उनके सारे नट बोल्ट ढ़ीले कर दिए होंगे।
मदनलाल :-- ऐसा कुछ नहीं है बहु। तुम्हे नहीं मालूम शांति को ये बहुत पसंद था। कहते हुए मदनलाल ने बहु का हाथ पकड़कर आगे पीछे करने लगा और बोला ऐसे ही खिलाती रहो। काम्या
धीरे -२ बाबूजी को हैंड जॉब देने लगी। तब मदनलाल फिर बोला
मदनलाल ::--- तुम्हे मालूम है शांति की क्या आदत थी ?
शांति :-- बताइये
मदनलाल :-- शांति इसको हमेशा अपने हाथ में लेकर सोती थी। अगर रात को ये हाथ से छूट जाता तो उसकी नींद खुल जाती थी। जब बच्चे हुए तब कहीं उसकी ये आदत छूटी।
काम्या :-- सच कह रहे बाबूजी ?
मदनलाल :-- सच बहु। तुम्हारी कसम। जब तक उसे नींद नहीं आ जाती इसी से तरह -२ से खेलती रहती थी। काम्या ने लजाते हुए पूछा
काम्या :-- तरह तरह से मतलब ?
मदनलाल :- एक तो जैसे तुम खेल रही हो। दूसरा शांति को हमारे इसको चूसना बहुत पसंद था। बाउजी की बात सुनकर काम्या शर्म से दुहरी हो गई और सिर झुका कर बोली
काम्या : - - बाबूजी आप झूठ बोल रहे हैं मम्मी ऐसा गन्दा काम कर ही नहीं सकती। वो तो कितना पूजा पाठ करने वाली हैं।
मदनलाल :-- अरे पगली पूजा पाठ तो उसने अभी चार छः साल से शुरू किया है पहले तो वो सिर्फ इसी की पूजा करती थी
काम्या :-- हमें विश्वाश नहीं है आप एक नंबर के झुट्टे हो। काम्या ने अदा के साथ कहा
मदनलाल :-- अच्छा बहु हम सबूत दे दें तो।
काम्या :--- क्या सबूत है आपके पास।
मदनलाल :-- हमारे पास एक वीडियो क्लिप है जिसमे आपकी परम आदरणीय सासू माँ हमें ब्लो जॉब दे रहीं हैं। वीडियो पर तो विश्वाश करोगी न।
काम्या :-- वीडियो कब बनाया आपने। हमें तो सब झूठ लग रहा है। आप बहुत बदमाश हो।
मदनलाल :-- बहु ये करीब आठ दस साल पुरानी बात है। उन दिनों हफ्ते में एक दो बार हमारा और तुम्हारी मांजी का प्रोग्राम बन ही जाता था। उन्ही दिनों हमने नया नया मोबाइल लिया था एक रात वो जब अपने खिलोने को मुंह में लेकर steam bath करा रही थी हमने वीडियो बना ली। अभी भी वो मेमोरी कार्ड हमारी अलमारी में है। हम आपको दिखाएंगे तब तो मानोगी ना। बाबूजी की बाथ सुनकर काम्या बहुत लजा गई और बोली
काम्या :- नहीं देखना हमको ऐसा गन्दा सा वीडियो। कहते कहते काम्या के चेहरे में शर्मो हया के कारण गज़ब का नूर आ गया था। उसका चेहरा लाल हो गया तथा साँसे तेज़ हो गई थी। मदनलाल ने महसूस किया कि लण्ड पर बहु की पकड़ भी बहुत मजबूत हो गई थी और हाथ भी तेज़ चलने लगा था।
मदनलाल ने मौका देखा और बहु के खूबसूरत चेहरे को दोनों हाथों में लेकर चुम्बन लेने लगा। काम्या भी heat में आकर अपनी जांघें रगड़ने लगी। बाबूजी ने प्यार से उसकी ठोड़ी उठाई ,काम्या ने आँखे खोला तो मदनलाल ने अपने लण्ड की तरफ इशारा कर के अपना मुंह खोला और बहु को चूसने का इशारा किया। ससुर का लंड चूसने का इशारा देख कर काम्या शर्म के मारे जमीन में गढ़ गई। मदनलाल ने फिर कहा
मदनलाल :-- बहु प्लीज। चूसो न
मदनलाल :-- नहीं बाबूजी। ये हमसे नहीं होगा
मदनलाल :-- क्यों बहु। तुम्हे हमसे प्यार नहीं है क्या
काम्या :-- प्यार तो है लेकिन आप हमारे पति तो नहीं हैं।
मदनलाल :-- बहु हम तो सिर्फ एक प्रेमी का हक़ मांग रहे हैं पति का नहीं। हम वो करने को थोड़ी बोल रहे हैं जो सुनील करता है
काम्या :-- अच्छा जी ! आप से किसने कह दिया कि ये प्रेमी का हक़ है
मदनलाल :-- कहने की क्या बात है। आजकल हर गर्ल फ्रेंड अपने बॉय फ्रेंड को bolw job देती हैं। तुम्हारी भी कॉलेज में कई सहेलियां होंगी जिनके BF रहे होंगे। वो भी ब्लो जॉब करती होंगी। बाबूजी की बात सुनकर काम्या को अपने कॉलेज की याद आ गई। उसने अपनी करीब आधा दर्जन सहेलियों के बारे में सुना था कि वो अपने BF का चूसती हैं। जिसमे पिंकी और मधु ने तो उसे खुद बताया कि उनके BF उनसे अपना चुसवाते हैं। ये बात याद आते ही वो और गरम हो गई और तेज़ी से मुठियाने लगी। मदनलाल ने फिर कहा
मदनलाल :-- बहु तुम्हे हमारी कसम। प्लीज चूसो न। लेकिन काम्या बार बार मना करती रही। इस से पहले कि मदनलाल कुछ और जोर देता वो अपने को रोक नहीं पाया और काम्या के पेट और चूची में रस मलाई की बरसात कर दी। बाबूजी की मलाई बहु के पूरे पेट और बूब्स फैल गई थी। काम्या अपने शरीर की हालत देखी तो बोल पड़ी
काम्या :-- छिः छिः। कितना गन्दा कर दिया। अब हमको फिर से नहाना पड़ेगा।
मदनलाल :-- सॉरी बहु। हम कंट्रोल नही कर पाये। कई साल बाद आज औरत का हाथ इसको मिला है इसलिए ये रुक नहीं पाया।
काम्या :-- लेकिन इतना सारा माल। इतना सारा माल कैसे निकल गया।
मदनलाल :-- माल तो इतना ही निकलता है। बल्कि ये तो कम है। जब हम तुम्हारी उमर के थे तो इससे ड्योढ़ा निकलता था
काम्या :-- हे भगवान ! लेकिन उनका तो इसका चौथाई भी नहीं निकलता। बाबूजी अब हम समझे आप हमें परेशान करने के बाद हमेशा बाथरूम क्यों जाते हो।
मदनलाल :-- क्या समझी। हमें तो बताओ
काम्या :-- अरे जिसके अंदर इतना सारा माल भरा होगा उसे निकाले बिना चैन कहाँ आएगा।
मदनलाल :-- चलो अब बाथरूम जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। वो काम यहीं हो जायेगा।
काम्या :-- आहा हा हा। बड़े आये। हम कोई रोज -२ करने वाले नहीं हैं। बस आज बात ख़त्म। अब आप जाइये यहाँ से हमें सब सफाई करना है फिर दुबारा नहाना है।

1 user likes this post dpmangla
Quote

nice One

Quote

Rochak aur Romanchak.

Quote





Online porn video at mobile phone


bollywood hiroin nude photosnew chawat kathawww.hindi sex khanitamil font sex storysarmpits exbiifree desi sex websitewife swapping stories hindimasala desi storiessachin sexnacked aunty imagesindiyan sex storishakeela mallu photoskatha nepali chikekoहिन्दी कहानी अमीर घर की बेटी चोदाइ का भरपूर मजा उठातीchut lund chudaixxxnx school girltamil actress dick rising cock sucking picexbiibaba ka lundmalayalam xxx vediosexstorieteluguhottamil srx storyxoissp 36 வயது ஆண்டி மாமிurdu font xxx storieshot mms scandalsmallika sherawat fakeskhujaliwali desi aunty choot imagesex deepaindian sexy storieddirty jokes desiwww.amature porntamil homely sex videosxxx kahaniya in hindidesi blousedesi incenttamil sex story with photosdoctor moddaurdu sex storystmil xxxmalayalam sex katakalhot story telugumalayalam xxx vediossex stories of bollywood actressespics of desi auntiesfree desi mms sitesindian masala sex storiesincrst comicsmujhe mardon ke muh me apni choot rakh kar baithne ki aadat thi hindi sexstories antarwasna.comadult xxx jokesnangi ladki ki kahaniindian hot aunties imagehot telugu boothu kathaluindian sexstoressex stories in bengali fontread tamil sex stories onlineseducing my momsex stories in marathi languagekhet mai chudainaruto xxx comicbhabhi ki chudayitelugu stories on sexlatest malayalam sexrita in tarak mehtanew telugu sex chatsexy stories with bhabhiwet clothing girlsoothil oll vangum tamil pengal storys photossriping girlsandhra telugu sex storiestamil athai sex storiesathai storiesmouthfucking videosbabes in sareesri lanka sex piclund aur chutindian actress feet worshipboobs squeezing videosindiansex stories hindidesi x videoessexy stories in oriyakannda sex storynew telugu boothu storieshot aumtybig booba imagestamil naughty storiesbap beti sex story6 inch dicks picsdesi hindi sex storiesreal chode picturechut burbig tit indian auntymalayalam mallusex