Click Here to Verify Your Membership
First Post Last Post
Desi कमसिन कलियाँ और हरामी लाला

Good One

Quote

अब तक आपने पढा़..

पर वो ये नही जानते थे की 1-2 चालें सफल होने का मतलब ये नही होता की वो माहिर खिलाड़ी बन चुकी है...

ख़ासकर तब जब लाला जैसा मंझा हुआ खिलाड़ी मैदान में हो...

अब तो सभी को रात का इंतजार था..

अब आगे...

निशि का कमरा उपर था और उसके उपर की छत्त पर ही वो अक्सर सोया करती थी...

वही से पिंकी के घर की छत्त भी लगी हुई थी, जहाँ से अक्सर दोनो सहेलियां एक दूसरे के घर चली जाया करती थी..

निशि का भाई और माँ नीचे ही सोया करते थे...
और उपर आने के लिए बीच वाले फ्लोर यानी निशि के कमरे से ही आया जा सकता था,

उसे बंद कर देने के बाद तो नीचे से भाई और माँ के ऊपर आने का सवाल ही नही उठता था..

पर सवाल ये था की छत्त तक लाला कैसे आएगा...
अब उसने खुद ही ये बात बोली है तो वही कुछ जुगाड़ निकालेगा...

खैर, निशि के कमरे में जाने के बाद पिंकी ने रेजर से उसकी चूत अच्छी तरह से सॉफ कर दी...
जिसके बाद वो एकदम चिकनी होकर लश्कारे मारने लगी...

पिंकी : "हाय ....मेरी जान....मेरा तो मन बेईमान हो रहा है तेरी चूत देखकर...मन तो कर रहा है की इसे मैं अभी खा जाऊं ....''

मन तो वैसे निशि का भी कर रहा था...
पर नीचे उसकी माँ और भाई थे, जिनके डर से वो कुछ नही कह पाई...

पर उसने अपनी पूरी सलवार उतार कर अपना जिस्म नीचे से नंगा ज़रूर कर लिया...

पिंकी तो समझी की वो उसकी बात मान गयी है...
पर निशि बोली : "अभी ज़्यादा सपने ना देख, भाई और माँ नीचे ही है...कुछ करने बैठे तो कपड़े पहनने का भी टाइम नही मिलेगा...ये मैने इसलिए उतारा ताकि टाँगो के बाल भी सॉफ कर सकूँ ...समझी...''

पिंकी : "ओये होये...तैयारी तो ऐसे कर रही है जैसे आज तेरी सुहागरात है लाला के साथ...''

ये सुनकर निशि शरमा कर रह गई...

वो बोली : "वो तो मैं इसलिए कह रही हूँ क्योंकि लाला को शक ना हो जाए...तूने देखा था ना मीनल दीदी की टांगे भी एकदम चिकनी थी...

मेरी टाँगो पर बाल देखकर लाला को शक हो गया तो मुसीबत आ जाएगी...''

पिंकी : "और इसी बहाने तू अपनी सफाई भी करवा रही है ...सही है बच्चू ...आज तेरा दिन है...मज़े लेगी आज तो लाला के साथ....आज तो लाला तेरे साथ मिनी सुहागरात मनाएगा... हा हा..''

उसका एक-2 शब्द निशि के जिस्म में अंगारे भड़का रहा था....

पहले तो वो घबरा रही थी पर अब तो उसे भी लाला के आने का इंतजार था...

उसने तो सपने में भी नही सोचा था की जिस लाला को आज झरने के नीचे अपनी बहन की चुदाई करते देखकर आई थी वो , उनके लंड के इतनी जल्दी दर्शन करने को मिलेंगे उसे....

इस वक़्त वो पिंकी के मुक़ाबले अपने आप को ज़्यादा खुशकिस्मत समझ रही थी..

खैर, कुछ देर वहां बैठकर और रात का प्लान बनाकर पिंकी अपने घर चली गयी...

निशि भी उसके बाद काफ़ी देर तक खुश्बुदार साबुन से नहाती रही और अपनी होने वाली मीटिंग के बारे में सोचकर पुलकित होती रही...

रात को खाना खाकर वो अपने कमरे में आ गयी...
करीब आधा घंटा इंतजार करने के बाद उसने नीचे झाँककर देखा तो अपनी माँ को खर्राटे मारते हुए पाया...

और उसका भाई अपने कमरे में सो रहा था...

अब वो निश्चिंत हो गयी और कमरे को अंदर से बंद करके, एक चादर और पिल्लो लेकर, पिछले दरवाजे से निकलकर छत्त पर आ गयी....

वहां पहले से ही पिंकी उसका इंतजार कर रही थी..

दोनो ने कुछ देर तक आपस में बाते की और लाला के आने का इंतजार करने लगी...

करीब एक बजे उन्हे साइकल पर लाला आता हुआ दिखाई दे गया...

उसके कंधे पर एक लकड़ी की सीढ़ी थी...

रात का समय था इसलिए शायद कोई पूछने वाला नही था लाला को की इतनी रात को सीढ़ी लेकर कहाँ जा रहा है...

दोनो सहेलियां बड़े गौर से लाला को देख रही थी...
घुप्प अंधेरा होने की वजह से लाला उन्हे झाँकते हुए नही देख पा रहा था...

लाला ने साइकल दीवार से लगाकर खड़ी कर दी और सीढ़ी को निशि के घर के पिछले हिस्से पर लगा कर उपर चढ़ आया...

फिर लाला ने सीडी को उपर खींच लिया और बाल्कनी पर रखकर उपर वाली छत्त पर चड़ने लगा, जहां इस वक़्त दोनो सहेलिया छुपकर लाला की ये सारी हरकतें देख रही थी...

पिंकी भागकर अपनी छत्त पर जाकर पानी की टंकी के पीछे छुप गयी और निशि भी चादर बिछाकर उस पर लेट गयी...

कुछ ही देर में लाला उपर आ गया... अकेली लेटी मीनल यानी निशि को देखकर उसका चेहरा खिल उठा

निशि का दिल धाड़-2 बज रहा था...

लाला दबे पाँव उसके करीब आया और धीरे से आवाज़ लगाई : "मीनल...ओ मीनल...सो गयी क्या...''

इस वक़्त निशि इतना डर चुकी थी की उसके मुँह से कुछ निकला ही नही...

और इस डर से की कही वो उसकी आवाज़ ना पहचान जाए वो सोने का नाटक करती रही...

लाला उसके करीब आकर लेट गया और उसकी पीछे निकली हुई गांड पर अपना लंड लगाकर उससे लिपट गया

''अररी छमिया ..सो गयी क्या तू....थोड़ा इंतजार भी ना हुआ तुझसे मेरा.....चल अब उठ जा .....देख मेरा लंड कैसे बिदक रहा है मेरी धोती में ......''

निशि ने कुन्मूनाने का नाटक किया और अपनी गांड पीछे करके लाला के लंड से घिसने लगी...

निशि की तो हालत खराब हो रही थी ...
उसे तो ऐसा लग रहा था जैसे उसकी गांड के पीछे कोई बड़ा सा बेलन लेकर वहां की मालिश कर रहा है...

उस बेलन जैसे लंड पर अपनी नन्ही सी गांड घिसते हुए निशि के मुँह से सिसकारी निकल गयी...

लाला ने भी आवेग में आकर उसके बदन पर हाथ फेरना शुरू कर दिया...

और धीरे-2 लाला के हाथ उसकी टी शर्ट के अंदर सरक गये...

निशि भी सिसकारी मारती हुई अपने हाथ को पीछे तक ले गयी और लाला की धोती के उपर से ही उनके लंड को पकड़ कर अपनी लार टपकाने लगी....

लाला के हाथ जैसे ही निशि के नन्हे कबूतरो पर आए तो वो चोंक गया...

वो इसलिए की सुबह के मुक़ाबले ये काफ़ी छोटे लग रहे थे....

ऐसा कैसे हो सकता है....!!

लाला ने बारी-2 से दोनो को हाथ में लिया तो उसका शक यकीन में बदलता चला गया की ये वो छातियाँ नही है जिन्हे उसने सुबह बुरी तरह से अपने हाथो और मुँह से निचोड़ा था...

लाला को एक पल के लिए लगा की वो कही ग़लती से किसी और की छत्त पर तो नही आ गया...

या फिर मीनल के बदले ये कोई और लड़की तो नही है...

पर जिस अंदाज से वो लाला के लंड को पकड़ कर सीसीया रही थी उससे तो यही लग रहा था की वो लाला का ही इन्तजार कर रही थी..

पर फिर भी लाला ने अपनी शंका का समाधान करने के लिए उसके कान को मुँह में भरकर ज़ोर से चूसा और धीरे से कहा : "ओ मीनल....मेरी जान.....लाला का लंड चुसेगी.....बता.....''

जवाब में निशि ने मीनल की तरह आवाज़ में भारीपन और मिठास लाते हुए कहा : "हाँ लाला.....जब से तूने झरने के नीचे मेरी प्यास बुझाई है, तब से तेरे लंड को दोबारा चूसने के लिए तड़प रही हूँ मैं ......''

लाला का तो सिर चकरा गया....उसकी आवाज भी मीनल से नहीं मिल रही थी

उसे यकीन था की ये मीनल नही है फिर भी मीनल होने का नाटक क्यो कर रही है..!!

और अचानक लाला की ट्यूबलाइट जल उठी....
उसने मन ही मन कहा : 'कहीं ....कहीं ये....ये निशि तो नही है.....हाँ ..ये वही है....

साली अपनी बहन के बदले यहाँ आ गयी है...लगता है दोनो बहनो की प्लानिंग है ये...सोच रही होगी की लाला को पता नही चलेगा....

ये कुतिया की बच्ची ये नही जानती की लाला इन सभी का बाप है.....और वैसे भी, इस चिड़िया को पकड़ने के लिए तो कितने दिनों से दाना फेंक ही रहा था मैं ...

अच्छा हुआ की खुद ही मेरे जाल में फँस गयी आकर....लगता है इसकी चूत में काफ़ी खुजली हो रही है...आज इसकी सारी इच्छाएं पूरी कर दूँगा मैं ....'

इतना कहकर उसने मीनल उर्फ निशि का चेहरा अपनी तरफ किया और उसके होंठो पर टूट पड़ा....

उफ़फ्फ़.....
क्या नर्म होंठ होते है इन कुँवारी लड़कियों के...
मुँह में लेते वक़्त एकदम कठोर...
पर चूसते - 2 कब वो पिघलकर एकदम नर्म हो जाते है पता ही नहीं चलता और फिर उनमें से जो रस निकलता है उसका मुकाबला तो महंगी से महंगी शराब भी नही कर सकती...

दूर बैठी पिंकी ये सब देखकर पागल सी हो रही थी....

बेचारी बुरी तरह से अपनी छाती पर लगे निप्पल्स को कचोटती हुई दूसरे हाथ से अपनी चूत को सहला रही थी....

और सोच रही थी की काश वो इस वक़्त होती लाला की गिरफ़्त में तो मज़ा ही आ जाता...

पर अब पछताने से कुछ नही होने वाला था....
क्योंकि इस वक़्त तो लाला के कठोर हाथो के मज़े निशि ले रही थी....

लाला ने उसके होंठ चूसते -2 उसे अपने उपर ले लिया और उसे अपने लंड पर बिठाकर अपने हाथ उपर करके उसकी कड़क चुचियो को ज़ोर-2 से रगड़ने लगा....

निशि अपनी आँखे बंद करके लाला के सख़्त हाथो का मज़ा ले रही थी...

भले ही घुप्प अंधेरा था, पर लाला की पारखी नज़रों ने अंधेरे में देखकर ही ये कन्फर्म कर लिया की वो निशि ही है...

अब उसका लंड और भी ज़्यादा उतावला होकर उसकी गांड के नीचे कुलबुला रहा था...

लाला के हाथ और गांड के नीचे उसके लंड को महसूस करके निशि ने आवेश में आकर एक ही झटके में अपनी टी शर्ट उतार फेंकी....

और अब उसकी नन्ही-2 बूबियाँ लाला के सामने नंगी थी....

इस वक़्त तो वो ये भी भूल चुकी थी की वो मीनल बनकर लाला से मज़े ले रही है....

उसने लाला के सिर को पकड़ा और अपनी छाती से लगाकर अपने जामुन जैसे निप्पल उसके मुँह में ठूस दिए....

लाला ने अपना दैत्याकार मुँह खोलकर उसके दाने समेत पूरे बूब्स को ही अपने मुँह में निगल लिया...
बेचारी दर्द से छटपटाने लगी...

''आआआआआआआआआआआहह .....लाला..................आआआआआअहह माआआर डाला रे........सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स.....''

अपनी कमसिन छाती पर पहली बार किसी मर्द के दांतो की कचकचाहट महसूस करके उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया...

लाला की धोती तक उसकी सीलन पहुँच गयी और लाला का रामलाल एक कुँवारी चूत की गंध सूँघकर बेकाबू सा हो गया और धोती का सिरा साइड में करके अपना सिर बाहर निकाल लिया उसने और निशि की कसावट वाली गांड पर अपना चेहरा रगड़ने लगा...

निशि तो पागल सी हो गयी लाला के लंड को और करीब से महसूस करके....

उसने लाला के मुँह से अपना बूब छुड़वाया और उन्हे लिटाकर धीरे-2 किसी नागिन की तरह वो नीचे की तरफ सरकने लगी...

टॉपलेस नागिन थी वो इस वक़्त जो लाला के लंड को डसने निकल पड़ी थी...

लाला की टाँगो के बीच बैठकर उसने किसी दुल्हन की तरह लाला की धोती खोलकर अंदर की दुल्हन यानी लाला के लंड को पूरा बाहर निकाल दिया...

घने अंधेरे में ही सही पर उसकी काली चमड़ी दमक रही थी...

और दमकती भी क्यो नही, रोज सुबह नहाते हुए वो सरसो के तेल से मालिश करता था अपने प्यारे रामलाल की...

लाला के लंड की चमक दूर बैठी पिंकी की आँखो तक भी गयी.....

जिसे देखकर उसने अपनी पायजामी उतारकर अपनी 3 उंगलियाँ एक साथ अपनी चूत में उतार दी...

और बुदबुदाई : "अह्ह्ह्ह लाला......क्या लंड है तेरा.....कसम से....मुझे मौका मिला तो पूरा निगल जाउंगी एक ही बार में ......''

और ज़ोर-2 से वो अपनी चूत के अंदर उंगलियाँ डालकर मूठ मारने लगी...

निशि ने जब अपने चेहरे के सामने लाला के नाग को फुफकारते हुए देखा तो उससे भी सब्र नही हुआ...

उसने दोनो हाथो से उसे पकड़ा और मुँह में ले लिया...

अपनी बहन की तरह उसे भी लाला के लंड को मुँह में लेने में मुश्किल हुई पर उसने हार नही मानी और अपने मुँह को जितना खोल सकती थी उसे खोला और लाला के प्यारे रामलाल को मुँह में लेकर ही मानी...

लाला को तो ये रेशमी एहसास ऐसा लग रहा था जैसे किसी कसी हुई गीली चूत में अपना लंड डाल दिया हो उन्होने..

निशि ने लाला के लंड को अपने हाथ में पकड़ा और अपने मुँह को पूरा उपर नीचे करते हुए लाला के लंड को चूसने लगी...

लार निकल-2 कर साइड में गिर रही थी....
साँस लेने मे मुश्किल हो रही थी
पर निशि ने लंड चूसना नही छोड़ा...

लाला तो उसकी ये कला देखते ही समझ गया की ये भेंन की लौड़ी पूरे गाँव में लंड चुसाई की मिसाल पेश करेगी एक दिन...

लाला की उम्र के सामने निशि की जवानी की कसावट ही ऐसी थी की लाला का लंड ना चाहते हुए भी एक मिनट के अंदर झड़ने लगा...

लाला के लंड से निकले गाड़े रस को महसूस करते ही निशि अपना चेहरा पीछे करने लगी पर लाला ने अपने सख़्त हाथ उसके सिर पर लगाकर उसे हटने ही नही दिया...

और अंत में ना चाहते हुए भी उसे लाला के लंड की क्रीम अपने गले से नीचे उतारनी पड़ी...

पर एक बार जब उस रस का स्वाद उसकी जीभ को लगा तो वो सोचने लगी की मैं तो बेकार में ही उस रसीले पानी को छोड़ने लगी थी.....
ऐसा मज़ा तो गन्ने के रस में भी नही होता...

बस...
फिर क्या था....
एक रंडी की तरह उस निशि ने लाला के लंड को निचोड़ डाला...

उसके लंड की बांसुरी तब तक बजाती रही जब तक उसमें से सुर निकलने बंद नही हो गये...

सुर तो लाला के मुँह से भी नही निकल रहे थे अब....

साली ने उसके लंड को इतनी बुरी तरह से चूसा था की अब उसे खड़ा होने में करीब 1-2 घंटे और लगने थे....

और इतना टाइम उसके पास नही था...

वैसे भी 3 तो बज ही चुके थे ये खेल खेलते-2 ....
गाँव का मामला था, कई लोग 4 बजे उठकर सैर करने निकल पड़ते थे

उनसे बचने के लिए लाला का वापिस जाना ज़रूरी था...

इसलिए अपनी धोती समेट कर वो चुपचाप जिस रास्ते से आया था , उसी रास्ते से नीचे उतर गया...
और नीचे पहुँचकर अपनी साइकल पर बैठकर अपने घर की तरफ निकल गया..

और पीछे छोड़ गया निशि को
जो अधनंगी सी पड़ी हुई
लाला के वीर्य में नहाई हुई सी
अपनी चूत से रिस रहे रस को अपनी उंगलियो से मसलती हुई
किसी दूसरी ही दुनिया में गुम थी....

उसे तो यकीन ही नही हो रहा था की ये सैक्स का खेल इतना मज़ा देता है....

जब आधे अधूरे से खेल ने इतना मज़ा दिया है तो पूरा खेलने में कितना मज़ा आएगा...

इसी बीच अपनी छत्त पर छुपकर बैठी पिंकी भी, बिना सलवार के , उसके करीब आ गयी....
उसकी आँखो में भी एक अलग ही तरह की हवस तेर रही थी....
जिसे बुझाना ज़रूरी था ..

अभी के अभी...

ये रात और भी लंबी होने वाली थी इन छोरियों के लिए...

Quote

Lovely

Quote

Lala Apna kam kar gaya. Aab nishi aur pinki ki bari hai.

Quote

hmmm very hot updates, mast story hai

Quote

पिंकी जब निशि के करीब आई तो अपनी चादर पर वो ऊपर से नंगी होकर पसरी पड़ी थी...

उसके चेहरे और छाती पर लाला के वीर्य की बूंदे चमक रही थी....
जैसे सोने के थाल पर खीर के छींटे पड़ गये हो..

पिंकी ने एक लंबी सी सिसकारी मारते हुए कहा : "साली....क्या किस्मत है रे तेरी......लाला का लंड चूस लिया आज तो तूने...इतना मोटा लंड था...मुँह में भी नही जा रहा था तेरे...फिर भी निगल गयी थी....एक नंबर की कुतिया है तू तो....

सच में यार....आज पहली बार तुझसे जलन हो रही है की मुझे क्यो नही मिले ये मज़े ......काश मैं होती तेरी जगह आज.....लाला के लंड को चूस लेती बुरी तरह से......उम्म्म्म......क्या लंड था यार.....अंधेरे में भी हीरे की तरह चमक रहा था....''

पिंकी एक ही साँस में बोलती चली जा रही थी और निशि अपनी चूत में उंगली डालकर लाला के ख़यालो में खोई हुई थी...

अंत में वो बोली : "सही कह रही है तू यार....लाला का लंड सच में कमाल का था....क्या खुश्बू थी उसकी....और उसमें से निकला ये रस....उम्म्म्मममममम......मैं तो जबरी फेन हो गयी रे लाला के लंड की और उसके इस मीठे पानी की....''

पिंकी ने जब निशि के चेहरे पर चमक रही लाला के रस की बूँद देखी तो उसे पता नही अचानक क्या हुआ और उसने नीचे झुकते हुए वो बूँद अपनी जीभ से चाट ली...

''आआआआआआआआआआहह.......सच कह रही है रे तू.....क्या बढ़िया स्वाद है....लगता है लाला को मीठा बहुत पसंद है....''

दोनो सहेलियां खिलखिलाकर हंस दी..

और फिर तो पिंकी बावली सी होकर निशि पर टूट ही पड़ी...

पिंकी ने निशि का पायज़ामा भी उतार फेंका...
अब निशि का नंगा शरीर चटाई की तरह बिछा पड़ा था उसके सामने...

वो अपनी जीभ से उसके हर अंग को किसी कुतिया की तरह चाटने लगी...

निशि ने भी कुतिया बनी पिंकी का टॉप पकड़कर निकाल दिया और अब वो दोनो सहेलियां, घुपप अंधेरे में , छत्त पर एकदम नंगी थी.

पिंकी ने सबसे पहले तो उसके मुँह पर अपना मुँह लगाकर उसे चूमना और चूसना शुरू कर दिया...
और उसके मुँह से जितना हो सकता था, लाला का बचा खुचा रस निकाल कर खुद पी गयी...

दोनो के कमसिन और नन्हे बूब्स एक दूसरे से टकरा कर करर्र की आवाज़े निकाल रहे थे....
कभी पिंकी उसके बूब्स को चूसती और कभी निशि...

उन्होंने आज से पहले इतनी बुरी तरह से एक दूसरे को प्यार नही किया था..

और आज ऐसा करने का कारण ये था की दोनो एक दूसरे में लाला का अक्स देख रही थी..

वो सोच रहे थे की ये वो अपनी सहेली के साथ नही बल्कि लाला के साथ कर रहे है..

बस कमी थी तो लाला के लंड की....
क्योंकि दोनो के लंड वाली जगह तो चूते थी...

पर दोनो में हवस ही इतनी बढ़ चुकी थी की पिंकी ने एक पलटी मारकर अपनी चूत उसके मुँह पर रख दी और उसकी चूत पर अपना मुँह लगा कर उसे चूसने लगी...

दोनो के मुँह से किलकरियाँ फूट पड़ी...
पिछले 1-2 घंटे से दोनो की चूत नदियाँ बहा रही थी और अब उन नदियों का पानी पीने के लिए एक दूसरे के मुँह आ गये थे जो सडप -2 की आवाज़ के साथ एक दूसरे का रस चूस रहे थे..

भले ही अभी के लिए उन्हे चूत चूसने में मज़ा आ रहा था पर दोनो के मन में यही चल रहा था की काश इस वक़्त लाला का लंड होता उनके मुँह में ...

और इन्हीं गंदे विचारों ने उनकी चूत का तापमान बढ़ा कर उच्चतम सीमा तक कर दिया और दोनो भरभराते हुए झड़ने लगी...

पिंकी चिल्लाई
''आआआआआआआआआआअहह.......मेरी ज़ाआाआआआआआअन्न्.....मैं तो गयी रे.......अहह........ओह लाला.................क्या जादू कर गया रे.......अपना लंड दिखाकर अपना गुलाम बना लिया रे तूने ......आआआआआआआआहह''

निशि ने भी उसकी सिसकारी में अपनी सिसकारी मिलाई

''आआआआआआआआहह.....सही कहा तूने............सच .....गज़ब का जादू कर गया वो लाला..........उम्म्म्ममममममम.......क्या लंड था यार.......मन तो कर रहा है उसकी गुलाम बनकर हमेशा उसका लंड चूसती रहूं .....नहाती रहूं उसके मीठे रस में ......''

दोनो की चूत से खट्टे पानी की बौछारें चूत में से उछल रही थी.....
कुछ एक दूसरे के मुँह में जा रही थी और कुछ नीचे की चादर पर....

ऐसी तृप्ति उन्हे आज तक नही मिली थी.....
ये ठीक वैसा ही था जैसे उनकी जवानी को एक नया आयाम मिल गया हो लाला के रूप में ....
जिसके मध्यम से वो अपने अंदर की सारी इच्छाएं पूरी करना चाहती थी...

और उधर उस लाला को ये भी पता नही था की उसके लंड की याद में पीछे कितना बवाल हो रहा है....

अगर लाला ये खेल देखने के लिए वहां छुपा रहता तो उसे आज अपने आप पर और अपने रामलाल पर गर्व होता..

लेकिन वो तो घर जाकर आने वाले कल के नये प्लान बना रहा था...

क्योंकि जिस चिड़िया ने आज उसका लंड चूसा था उसके और उसकी सहेली पिंकी के उपर उसकी काफ़ी दिनों से नज़र थी....
और उसकी उन्ही कोशिशो का प्रमाण था की वो खुद ही उसकी झोली में आ गिरी थी...

वो हरामी लाला ये बात तो जानता ही था की दोनो सहेलियां जो भी करती है एक साथ ही करती है, और हो ना हो, आज निशि के छत्त पर होने के बारे में उसकी सहेली पिंकी को भी पता ज़रूर होगा...

लाला जान चुका था की वो मीनल नही बल्कि उसकी बहन निशि थी और ये बात लाला को अब अच्छे से पता चल चुकी थी की निशि अब उसके लंड के लिए पागल हो चुकी होगी और जल्द ही अपनी तरफ से खुद पहल करके चुदवाने आएगी...

अब यहाँ लाला के पास 2 विकल्प थे...
एक तो वो निशि को चोद डाले और बाद में पिंकी के भी समर्पण का इंतजार करे..

या अपनी चालाकी से निशि को मजबूर कर दे ताकि वो खुद अपनी सहेली को उसके सामने लेकर हाजिर हो जाए....

ऐसे में एक साथ 2 कमसिन लड़कियों की चुदाई का जो आनंद उसे मिलेगा, उसका मुकाबला दुनिया के किसी भी सुख से नही किया जा सकेगा..

बस...
डिसाईड कर लिया की जो भी हो, वो दोनों को एक साथ ही चोदेगा
लाला अपने कपटी दिमाग़ में योजनाए बनाने लगा की कैसे वो अपने प्लान को सार्थक करे..

अगले दिन निशि जब उठी तो उसे रात में हुई एक-एक बात याद आने लगी...
अभी तक उसके जिस्म से लाला के लंड से निकले मीठे पानी की खुश्बू आ रही थी...

अपनी चूत पर अभी तक उसे पिंकी के होंठ और तेज दांतो की चुभन महसूस हो रही थी...
काश लाला ने भी उसकी चूत को चूसा होता..

पर कल रात जो हुआ उसके बाद तो अब उसकी चूत की कसक और भी बढ़ चुकी थी और उसने निश्चय कर लिया की अब ऐसे मीनल दीदी की आड़ में वो और कुछ तो कर ही नही पाएगी इसलिए उसे खुद ही सामने आकर , बेशर्म बनकर लाला को वो सब करने के लिए राज़ी करना होगा...

लाला तो खैर पहले से ही राज़ी था
उसे तो बस अपने आप को खुलकर लाला के सामने पेश करना था बस..

और इसी निश्चय के साथ वो उठ खड़ी हुई और नहा धोकर, अच्छे से तैयार होकर , पिंकी को बिना बताए ही वो लाला की दुकान की तरफ चल दी.

वहां लाला को भी पता था की आज निशि की चूत में ज़रूर फुलझड़ियां छूट रही होगी और वो आएगी ज़रूर, इसलिए वो खुद ही अपना प्लान बनाकर उसका इन्तजार कर रहा था..

लाला ने जब उसे अपनी दुकान की तरफ आते देखा तो उसने अपनी धोती में छुपे अपने यार, प्यारे रामलाल को पूचकारा और धीरे से कहा : "बेटा रामलाल....देख आ रही है वो कड़क माल....जिसकी चूत जल्द ही तेरी खुराक बनेगी...''

निशि ने मुस्कुराते हुए लाला की दुकान में प्रवेश किया और बोली : "राम राम लाला जी....''

उसे देखकर लाला का चेहरा खिल उठा

लाला : "आ री निशि आ जा....कैसी है तू....आजकल अकेली ही चली आती है अपनी जोड़ीदार के बिना...पहले तो तुम दोनो एक दूसरे के बिना दिखती भी नही थी...''

निशि ने बड़ी ही बेशर्मी भरी नजरों से लाला को देखा और बोली : "बस लालाजी....आप ही हो इस बात के ज़िम्मेदार....अकेले में आने का जो फ़ायदा आपसे मिलता है, वो साथ आने में नही मिल पाता...''

लाला समझ गया की वो कल वाली बात को सोचकर ये सब कह रही है....
जब लाला ने पिंकी को क्रीम रोल के बहाने अपने लंड के दर्शन करा दिए थे....
शायद उसी तरह के कुछ कार्यक्रम की आस में वो आज वहां आई थी...

लाला गौर से उसकी कुरती को देख रहा था और उसे ये पता करते देर नही लगी की उस हरामन ने आज ब्रा नही पहनी हुई है....

रंडी के दोनो निप्पल बटन बनकर उसकी छाती पर चमक रहे थे...

लाला को अपनी छाती की तरफ देखता पाकर निशि के वो कड़क निप्पल और भी ज़्यादा उभर कर बाहर निकल आए...

जब उनकी तारीफ लाला की हवस भरी नज़रें चिल्ला-2 कर कर रही हो तो उनसे कैसे बैठा जाना था दुबककर...

लाला तो सिर्फ़ उसकी छाती ही देख रहा था...
उसे ये नही पता था की उसके घाघरे के अंदर छुपी चूत भी बिना पेंटी के है आज....

यानी फुल तैयारी के साथ आई थी वो लाला की दुकान पर..

लाला कुछ देर तक उसे देखता रहा और बोला : "और सुना निशि ...तेरी बहन मीनल कैसी है....''

मीनल का नाम लेते हुए लाला जान बूझकर अपने रामलाल को निशि के सामने ही रगड़ रहा था ताकि उसे भी पता चले की उसकी बात का मतलब क्या है..

निशि कुछ देर तक तो चुप रही
फिर उसने अपनी नज़रें नीचे कर ली और कहना शुरू किया

"वो...वो ...लालाजी ...वही बात करने मैं आज आपके पास आई थी....कल सुबह ...मैने ...और पिंकी ने ...आपको और मीनल दीदी को झरने के नीचे....वो ...वो सब ....करते ...देख लिया था....और ...बाद में अचानक दीदी को अपने घर के लिए निकलना पड़ा....

पर आपकी बातें सुनने के बाद...मैने और पिंकी ने यही प्लान बनाया की ....की...रात को जब आप घर आओगे तब मैं मीनल दीदी की जगह लेट जाउंगी ....और आपको पता नही चलेगा....और ....कल रात जब आप छत्त पर आए...तो...वहां ...मैं थी.....मीनल दीदी नही....''

ये एक-2 शब्द बोलते हुए निशि का सीना धाड़-2 बज रहा था...

घाघरे के अंदर छुपी चूत से टपा-टप रसीले पानी की बूंदे दुकान के फर्श पर गिर रही थी..

लाला को अब समझ में आया की अचानक मीनल कहां गायब हो गयी...पर ये नहीं समझ पाया की वो पिंकी और निशि की चाल थी

बाकी तो उसे पता ही था की यही थी कल रात को....

और ये सब वो उसे इसलिए बता रही थी क्योंकि अब उसे शायद अपनी चूत की खुजली बर्दाश्त नही हो रही थी...

पर फिर भी वो अनजान बनने का नाटक करते हुए और डरी हुई सी आवाज़ में बोला

"ओहो.....ये तो बहुत ग़लत बात हो गयी....एक तो तूने कल मुझे अपनी बहन की चुदाई करते देख लिया और उपर से मैने तेरे साथ वो सब किया....ऐसा मुझे नही करना चाहिए था निशि ....ऐसा मुझे नही करना चाहिए था....''

लाला ने अपना चेहरा एक बेचारे की तरह बना लिया...
जैसे सच में उसे अपने किए पर पछतावा हो रहा हो...

लाला के शब्द सुनते ही निशि ने सकपका कर अपना चेहरा उपर किया और अपना कोमल हाथ लाला के हाथ पर रखते हुए बोली : "अर्रे नही लालाजी ....मैं ये सब यहाँ इसलिए नही कहने आई हूँ की मुझे ये सब बुरा लगा....

अगर ऐसा होता तो मैं भला मीनल दीदी के बदले वहां क्यो लेट जाती...और आपके साथ वो सब करती....वो तो मैं आपको इसलिए बता रही हूँ ताकि....आपको पता हो की....की मैं थी वो.....और....और ...मुझे....वो...बुरा नही लगा....''

लाला ने उसके नर्म हाथ को अपने कठोर हाथो में ज़ोर से दबा दिया और कहा : "बुरा नही लगा ...यानी अच्छा लगा तुझे....है....बोल ना.... अच्छा लगा ना तुझे लाला का लंड ...ह्म्म्म्म....बोल ना....''

जवाब में निशि की नज़रों में गुलाबीपन उतर आया....
और उसने शरमाते हुए अपनी नज़रें फिर से झुका ली और बहुत धीमी आवाज़ में बोली : "जी लालाजी.... अच्छा लगा मुझे...आपका...वो..रामलाल...''

रामलाल का नाम उसकी ज़ुबान से सुनते ही लाला की हँसी निकल गयी : "हा हा......मेरे रामलाल को तो तूने अच्छे से पहचान लिया....बहुत खूब....अब मज़ा आएगा....''

लाला ने आस पास देखा और उसे धीरे से कहा... : "चल तू अंदर गोडाउन में जा ज़रा..मेरे लिए तैयार रहियो...मैं एक मिनट में आता हूँ ..''

लाला की बात सुनते ही उसका शरीर सुन्न सा पड़ गया....

यही सुनने के लिए तो उसके कान तरस रहे थे...
वो झट्ट से दुकान के पीछे बने गोडाउन में दाखिल हो गयी...

पर अंदर जाते हुए उसे लाला की बात याद आई की लालाजी ने उसे तैयार होने के लिए क्यों कहा....
अच्छे से नहा धोकर और तैयार होकर ही तो वो वहां आई थी....

पर अचानक उसे लाला की बात की गहराई नज़र आ गयी....
और उसके चेहरे पर एक कातिलाना मुस्कान तेर गयी...

"अच्छा ...तो लाला उस तरह से तैयार होने को कह रहा था....ठीक है...हो जाती हूँ लाला के लिए तैयार ..''

और इतना कहते हुए उसने बड़ी बेबाकी से अपनी कुरती पकड़ कर उतार दी....
और कमर पर बँधा घाघरा भी खोलकर नीचे गिरा दिया....

10 सेकेंड भी नही लगे उसे नंगा होकर लाला के कहे अनुसार तैयार होने में ..

गोडाउन की बोरियो के बीच उसका कमसिन और नंगा शरीर एकदम बेपर्दा होकर अलग से दमक रहा था...

तभी उसे दुकान के शटर के बंद होने की आवाज़ आई....
यानी लाला दुकान को बंद करके अंदर ही आ रहा था...

वो झट्ट से चीनी की 3 बोरियों के उपर चड़कर घोड़ी बनकर बैठ गयी....
उसकी रसीली चूत और भरंवा गांड बाहर के दरवाजे की तरफ थी...
जो लाला के स्वागत के लिए एकदम तैयार थी..

वो तो चुदने के लिए पूरी तैयार हो चुकी थी...
पर उसे ये नही पता था की लाला के दिमाग़ में क्या चल रहा है...

Quote

Lovely Dude

Quote

nice post.

Quote

वो तो चुदने के लिए पूरी तैयार हो चुकी थी...
पर उसे ये नही पता था की लाला के दिमाग़ में क्या चल रहा है...

**********
अब आगे
**********

उधर लाला की भी हालत खराब थी
एक तरफ तो वो अपने शातिर दिमाग़ में दोनो सहेलियो को एक साथ ही चोदने का इरादा पक्का कर चुका था और उसके अनुसार तो वो निशि को अभी के लिए टरका देना ही चाहता था...

पर उसे क्या पता था की उसने अपनी हुस्न की दुकान के सारे दरवाजे खोलकर लाला के ईमान को डगमगाने के सारे इंतज़ाम कर लिए है...

जैसे ही लाला अंदर घुसा, चीनी की बोरी पर, कुतिया बनकर अपने घुटनो और बाजू पर खड़ी निशि दिखाई दी...
और वो भी एकदम नंगी.

गोडाउन में हमेशा से सीलन की महक रहा करती थी

पर आज निशि ने जैसे इत्र की डिबिया का ढक्कन खोल दिया था अपनी चूत के रूप में

उसमें से एक नशीली सी गंध निकलकर पुरे कमरे में फेली हुई थी...

असली सीलन तो निशि की चूत में आई हुई थी अब
जहां से उसका यौवन रस बूँद-2 बनकर टपक रहा था चीनी की बोरी में
और उसे और मीठा बना रहा था...

वैसे किस्मत वाला ही होगा वो जो इस चूत के रस में भीगी चीनी को लाला की दुकान से खरीद कर ले जाएगा..

लाला की तो हालत खराब हो गयी उस उत्तेजना से भरे सीन को देखकर
उन्होने भी शायद ये नही सोचा था की वो इतनी आसानी से नंगी होकर लाला से चुदने को तैयार हो जाएगी...

लाला ने अपनी आँखे बंद की और 2-3 लंबी साँसे ली ताकि वो निशि के नंगे शरीर को देखकर अपने प्लान से ना भटक जाए..

पर लाला का रामलाल धोती में विद्रोह कर बैठा और ज़ोर -2 से चिल्ला उठा ...'अबे भेंन चोद लाला....साले तेरी प्लानिंग के चक्कर में आज ये कच्ची कली हाथ से निकल जाएगी भोसड़ीके ....बदल से अपना फ़ैसला और पेल दे इस छोकरी को यही...घुसा दे मुझे इसकी संकरी चूत में और लूट लेने दे मज़ा एक सीलबंद चूत का.....'

पर लाला पर तो जैसे कोई असर ही नही हो रहा था उसकी थिरकन का...

यही फ़र्क होता है जब एक इंसान के पास सैक्स का इतना एक्सपीरियेन्स हो जाता है की वो अपने आप पर ऐसे मौके पर भी संयम रख सकता है.

उसने अपने रामलाल का गला धोती में ही घोंट दिया और मुस्कुराते हुए अंदर घुस आया...

लाला : "अर्रे वाह....अब पता चल रहा है की मेरे खिलाये सारे क्रीम रोल तेरे किन-2 अंगो पर जाकर लगे है...''

इतना कहते हुए लाला ने आगे बढ़कर उसकी गांड के तरबूज ज़ोर से दबा दिए..

निशि बेचारी सीसीया उठी...
वैसे ही उसकी चूत का बुरा हाल था
लाला के कठोर पंजे जब उसकी गांड पर लगे तो वो और भी ज़्यादा पनिया उठी..

लाला ने उस बकरी बनी निशि के नंगे शरीर को गौर से देखा...

आज तक उसने जितनी भी चूते चोदी थी उनमे से सबसे कम उम्र की थी ये जो उसके सामने नंगी खड़ी थी...

और ऐसी उम्र में कम उम्र की लड़कियां ही पसंद आती है.

लाला का मन तो बेईमान हो रहा था पर अपने अंदर जो एकबार उसने निश्चय कर ही लिया था की चुदाई नही करनी मतलब नही करनी..

पर रामलाल के बार -2 उकसाने पर उसने ये ज़रूर तय कर लिया की उपर-2 से तो कुछ मज़े ले ही सकता है...

वैसे भी कल रात से ही उसे निशि की चूत को चूसने का मन कर रहा था

और अब तो वो उसके सामने पूरी नंगी थी
उपर से उसकी लिष्कारे मार रही चिकनी चूत से निकल रहे शहद ने उसकी प्यास और बड़ा दी थी...

साथ ही साथ उसे निशि के अनार की तरह लटके नन्हे चुचे भी काफ़ी ललचा रहे थे....

नीचे लटके होने की वजह से वो अपने पूरे आकार में आ चुके थे...

लाला को आज ही आभास हुआ की वो इतने छोटे भी नही है जीतने आज तक वो सोचा करता था...

इसलिए सबसे पहले तो उसने उन चुचियो के नीचे हाथ लगाकर उनका वजन नापा और फिर अपने कड़क हाथो में लेकर उसकी दोनो बूबिया ज़ोर से मसल दी..

''आआआआआआआआआआआआहह..सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स....... दर्द होता है लालाजी....''

लाला ने मन में सोचा 'अब तो ये कहने की आदत तू डाल ही ले भेंन की लौड़ी ...क्योंकि लाला जब भी कुछ करता है तो सामने वाला यही कहता है की दर्द होता है लालाजी...'

और उसने निशि की बात अनसुनी करते हुए अपने हमले जारी रखे...

एक हाथ को वो पीछे की तरफ ले गया और उसकी मांसल गांड को भींचने लगा...
उसे आटे की तरह गूंधने लगा...

और फिर भी उसका दिल नही भरा तो उसने अपनी बीच वाली उंगली उसकी रसीली चूत में पेल दी...

ये तो निशि के लिए किसी लंड से कम नही थी....
आज तक इतनी मोटी चीज़ उसकी चूत में नही गयी थी....सिवाए पिंकी की जीभ को छोड़कर...
पर वो भी काफ़ी मुलायम थी...

ये लाला तो पता नही किस जन्म का बदला ले रहा था उसके साथ जो इतने रॅफ तरीके से उसके नंगे बदन के साथ खेल रहा था..

एक हाथ से मुम्मे दबाता हुआ, दूसरे हाथ से उसकी चूत और गांड की मालिश करता हुआ लाला अपने लंड को उसके नंगे पेट से रगड़ भी रहा था...

निशि ने थोड़ा तिरछा होकर लाला के लंड को धोती से बाहर खींच लिया और ऐसा करते ही उसका गर्म सलाख जैसा लंड उसके जिस्म से टकरा गया...

निशि को तो ऐसा फील हुआ जैसे वो गर्म लंड उसके शरीर से अपने आप को वेलडिंग कर रहा है....
एक बार् चिपका तो अलग होने का नाम ही नही ले रहा था...

पर जो भी था, अपने जिस्म के साथ लाला का ये बर्ताव भी निशि को अलग ही मज़ा दे रहा था....

उसने तो अपने आप को लाला के सहारे छोड़ दिया था
अब वो उसके साथ कुछ भी कर ले
वो मना करने वाली नही थी...

लाला ने नीचे झुकते हुए उसकी नंगी पीठ को चूम लिया....
वहां पर आए पसीने को उसने जब अपनी जीभ से चाटा तो निशि का नंगा शरीर काँप उठा और वो थरथराती हुई सी चीनी की बोरी पर पेट के बल आ गिरी...

बेचारी से साँस भी नही ली जा रही थी इस वक़्त...
लाला के हाथ उसके चिकने शरीर पर उपर से नीचे तक फिसल रहे थे...

उसकी खुरदूरी जीभ जब उसकी पीठ से होती हुई, उसकी गांड तक पहुँची तो उसके शरीर के सारे रोँये खड़े हो गये... लाला ने उसकी गांड को अच्छे से चाटा, उसे मुँह में भरकर काटा भी और अंत में जब उसने अपनी जीभ की नोक उसकी गांड के छेद पर लगाई तो वो भरभराकर झड़ गयी....

''आआआआआआआआआआआहह लाला.आआआआआआआआआ..... ये क्या कर दिया रे.......अहह....''

लाला ने भी जब देखा की उसके शहद का छत्ता फुट गया है तो उसने अपना मुँह थोड़ा और नीचे कर दिया और उसकी चूत पर होंठ लगाकर उस कीमती शहद को चाटने लगा...

इस वक़्त उसकी जीभ किसी गली के कुत्ते की तरह चपड़ -2 चल रही थी को कई दिनों बाद मिले इस मलाईदार माल की एक भी बूँद वेस्ट नही करना चाहता था.

लाला को जब उसकी चूत के पानी का स्वाद पता चला तो वो और भी ज़्यादा ज़ोर लगाकर उसे खोद-खोदकर निकालने लगा...

गाँव की कच्ची जवानी का खट्टा मीठा पानी मिलना हर किसी की किस्मत में नही होता...

और यहाँ तो लाला के पास एक के बाद दूसरी भी तैयार थी...

और आज लाला निशि के साथ भी ये सब इसलिए कर रहा था ताकि वो अपनी आपबीती सुनाकर जल्द से जल्द अपनी सहेली को भी अपने साथ ले आए...और फिर लाला का असली काम शुरू होना था, चुदाई का..

पर अभी के लिए, लाला की करामाती जीभ को अपनी चूत के दाने पर महसूस करके बेचारी निशि का ऑर्गॅज़म एक बार फिर से नया आशियाना बनाने लगा...

लाला खिसककर उसकी चूत के नीचे लेट गया, अपनी पीठ के बल, चीनी की बोरी पर और उसने निशि की चूत को पकड़कर अपने मुँह पर रख लिया और उसकी कसी हुई गांड को पानी भरे गुब्बारे की तरह दबाता हुआ, उसकी चूत को खाने लगा...

और वो बेचारी अपनी चीखो को सांतवे आसमान पर पहुँचाती हुई उसके मुँह की सवारी करके
खुद भी सांतवे आसमान पर जा पहुँची..

और उपर पहुँचकर एक जोरदार चीत्कार के साथ जब उसने अपनी चूत का पानी छोड़ा तो लाला को ऐसा प्रतीत हुआ जैसे उसके चेहरे पर कोई पहाडी बादल फट गया है....

इतने वेग के साथ अंदर का माल निकलकर उसके चेहरे पर बिखरा जैसे तेज प्रेशर के साथ कोई पेशाब कर देता है...

''आआआआआआआआआअहह लाला......... कमाल हो तुम ......उम्म्म्ममममममममम.......... मज़ा आ रहा है.......अहह......अंदर से कुछ हो रहा है.....लाला................अहह......मैं तो गयी....अब........गयी ........अहह''

इतना कहते हुए उसके शरीर ने उसका साथ छोड़ दिया और वो लाला के चेहरे पर ही लूढक गयी...

एकदम नंगी...गीली सी...
अपने ही रस में नहाई हुई...बेसूध सी..पड़ी थी वो अब, उसी बोरी पर.

लाला का मन तो कर रहा था की उसकी चूत में लंड पेलकर उसे इस नींद से उठा दे और एक बार फिर से इस गोडाउन की दीवारों को एक नया संगीत सुनाए...

पर जैसा की उसने डिसाईड कर लिया था...
अभी के लिए इतना ही बहुत था..

इसलिए,अपने चेहरे को एक टावल से सॉफ करके और अपना कुरता बदलकर जब वो वापिस आया तब भी निशि को उसी हालत में बेसुध सी पाया..

और जैसे ही वो निशि को उसकी मस्ती भरी नींद से जगाने के लिए आगे बड़ा, बाहर से पिंकी की आवाज़ आई..

''लालाजी........ओ लालाजी......अंदर ही हो क्या.....''

पिंकी की आवाज़ सुनते ही लाला की फट्ट कर हाथ में आ गयी..

अंदर उसकी सहेली नंगी पड़ी थी,
भले ही उसे चोदा नही था उसने पर उसकी हालत देखकर तो यही लग रहा था की अच्छे से चुदाई हुई है उसकी...

ऐसे में उसकी सहेली ने उसे यहां देख लिया तो मुसीबत आ जाएगी, क्योंकि निशि भी उसे बिना बताए ही यहाँ आई थी...

ऐसे में लाला को दोनो को मेनेज करना काफ़ी मुश्किल भरा काम होने वाला था...

--------------

कहानी जारी रहेंगी बस आप पाठ़को के रिव्यू का इंतजार रहेगा मुझे।

1 user likes this post [email protected]$$
Quote

Pinki ko bhi Nishi ke akele aane ki gandh lag gayi hogi

Quote





Online porn video at mobile phone


hot desi aunty blouseguddalo sulliwww.telugu sexs.commarathi hindi sex storiesxxx incest comixtracey adams forumsex stories by indiansboob jokes in hindibua ki ladkithanglish dirty storiesreal life slutshot stories in malayalamchelli tho sextamil sex in tamil fontgud maraniurdo sexy kahanyaurdu kahani in urdu 2014my wife dressed and undressedindian housewives forumdesi hot aunties pichindi sexy kahani in hindi fontmeena nude imagessania mirza hairy armpittelugu sex story in telugu scriptmms scandals hotthamil dirty storiesdirty sex kahaniyasex marathi kathaincest chat megasneha fake collectionguju sex storytamil sexy aunty storiesmarathi chawat katha videosraped story in hindisister bro sex storynude actres imagetamil hot dirty storiestelugu sex rtoriesxxx videos pakidesi aunty dress changemom son desi sexmalayalam exbbi bobbsramlal kanchanreal life aunties updatedtamil xxx stillsantravasana.conindian masala aunties picsbig boobs in dubainew exbiiasawari joshi hotmallu malayalam sex storiessex stories of amisha patelwww.bangla sex golpo.comsneha fakesexy stoieslund ki kahaniyahot bangla storiesizzat lootiromantic stories telugubengali boudi pictureschavat zavazavi kathahindi font storytelugu sex storyshakeela naked imageincent picstelugu aunties hot photosbreast feeding sex storieslund kahanireal suhagraat storiesprostitute nude pictaboo hindi storyhindisex siteexbii bathdirty urdu storiesindian amazing auntiessex story indameture porn videosvideos of bluefilmdesi breast pickagney linn picVelamma - Blackmailed #63 (Part - 5) heroins nude picshow to masterbate in bathhindi sex story with photoaunty ki storyshalini sex storiessex tagalog storyhot kadalusexystories.inmast bhabhichut ki pyaassexy bengali aunties